Tuesday, 17 September 2019

जब वीरू के रंग में दिखे थे राहुल द्रविड़, सबसे तेज फिफ्टी लगाकर किया था सबको हैरान

दोस्तों राहुल द्रविड़ विश्व के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक है। वे भारत के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने भारत मे ही नही अपितु विदेशो में भी अपने प्रदर्शन से क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीता है। राहुल द्रविड़ जैसा तकनीक किसी भी अन्य बल्लेबाज के पास नही है तथा उनका डिफेंसिव खेल गेंदबाज़ों के छक्के छुड़ा देता था।

Third party image reference
राहुल द्रविड़ ने एक बार टेस्ट में 34 गेंदों के बाद अपना खाता खोला था। इससे उनके टेम्परामेंट और धीरज रखने की क्षमता का पता चलता है। लेकिन दोस्तों आपको क्या पता है कि द्रविड़ टेस्ट के साथ साथ वनडे के भी एक बेहतरीन बल्लेबाज थे और उन्होंने वनडे में भारत के लिए दूसरा सबसे तेज फिफ्टी भी लगाया है।

Third party image reference
विकेट पर टिककर खेलने में द्रविड़ माहिर थे तथा उनको आउट करना गेंदबाजो के लिए काफी कठिन साबित होता था और इसलिए वे 'द वॉल' के नाम से भी काफी मशहूर हुए।

Third party image reference
साल 2003 में द्रविड़ ने ऐसी बल्लेबाजी की थी कि हर कोई देखता रह गया था। दरअसल न्यूज़ीलैंड के खिलाफ द्रविड़ 44.2 ओवर में बल्लेबाजी के लिए आए थे और 22 गेंद में पचासा ठोक डाला था। भारत की ओर से सबसे तेज फिफ्टी का रिकॉर्ड अजित अगारकर के नाम है, जिन्होंने 21 गेंद पर पचासा ठोका था। इसके अलावा कपिल देव भी 22 गेंद पर फिफ्टी जड़ चुके हैं। इसके अलावा युवी भी 22 गेंद पर फिफ्टी जड़ चुके हैं। द्रविड़ ने ये हाफसेंचुरी न्यूजीलैंड के खिलाफ जड़ी थी। वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर ने मिलकर टीम इंडिया को तूफानी शुरुआत दी थी।

Third party image reference

Third party image reference
आखिरी के ओवरों द्रविड़ को बल्लेबाजी का मौका मिला और उन्होंने कीवी गेंदबाजों की जमकर धुनाई की। द्रविड़ ने इस पारी के दौरान पांच चौके और तीन छक्के जड़े। 22 गेंद पर 50 रन बनाकर द्रविड़ नॉटआउट लौटे।