Tuesday, 17 September 2019

भारतीय क्रिकेट टीम: सौरव गांगुली ने क्यों लिया था भारतीय टीम से सन्यास? जानें पूरी खबर

नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत हैं क्रिकेट से जुड़ी अपडेट के लिए हमें फॉलो जरूर करें।
सौरव गांगुली भारतीय क्रिकेट टीम के वो चेहरे हैं जिन्हें कोई भूला नहीं सकता हैं क्योंकि इस खिलाड़ी ने भारतीय टीम को विदेशी धरती पर जीतना सिखाया। फिक्सिंग में डूबी भारतीय टीम को 2003 विश्वकप के फाइनल में पहुँचाया। भारतीय टीम को युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी, वीरेंद्र सहवाग जैसे खिलाड़ी भी दिए।

Third party image reference
सौरव गांगुली भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं। लेकिन उनका कैरियर ऑस्ट्रेलिया के ग्रेग चैपल के कारण डूब गया। 2003 में भारतीय टीम को फाइनल में पहुँचाने के बाद भारतीय टीम के दादा 2005 में विवाद में फस गए और टीम से बाहर हो गए।

Third party image reference
लेकिन 2007 में वापसी के साथ ही उन्होंने भारतीय टीम के लिए सबसे ज्यादा रन बनाए। केवल 10 मैचों में सौरव गांगुली ने 1106 रन बनाए थे जो कि जैक कालिस के बाद दूसरे स्थान पर थे। लेकिन शानदार प्रदर्शन के बाद भी धोनी और सिलेक्शन कमिटी ने ऑस्ट्रेलिया में होने वाले सीरीज के लिए सौरव गांगुली को नहीं चुना।

Third party image reference
धोनी को उस समय युवा टीम ऑस्ट्रेलिया ले जानी थी जिसके कारण धोनी ने कमिटी को साफ तौर पर बता दिया था। इसके बाद सौरव गांगुली को को वनडे टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया जिनके स्थान पर नए खिलाड़ियों को टीम में जगह मिली।

Third party image reference
लगातार टीम से बाहर होने के कारण सौरव गांगुली ने 2008 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए टेस्ट सीरीज में अचानक रिटायरमेंट के फैसला ले लिया। जिसमें धोनी ने उन्हें अंतिम मैच में कप्तान बनाकर उनके रिटायरमेंट को शानदार बनाया।

Third party image reference
सौरव गांगुली ने अपने कैरियर में 113 टेस्ट मैचों में 7212 रन बनाए जिसमे 16 शतक भी शामिल हैं। इसके अलावा 311 वनडे में 11363 रन बनाए हैं जिसमें उन्होंने 22 शतक लगाया हैं। इसके अलावा टेस्ट में 32 विकेट और वनडे में 100 विकेट भी उनके नाम हैं।