Wednesday, 30 October 2019

REPORTS: बिना बीसीसीआई की सहमति के 2023-2031 के बीच ICC ने 24 टूर्नामेंट की किया घोषणा

बीसीसीआई और आईसीसी के बीच एक द्वंद शुरु हो चुका है जिसका सामना नए पदाधिकारियों को करना पड़ सकता है। रिपोर्ट्स की मानें तो आईसीसी 2023-2031 के बीच में एक नया आईसीसी टूर्नामेंट शुरू करना चाहता है जबकि बीसीसीआई इस बात के पक्ष में नहीं है। साथ ही आईसीसी ने दुबई में हुई आईसीसी बैठक के दौरान यह भी फैसला किया है कि अब हर साल महिला व पुरुष विश्व कप का आयोजन करना चाहता है।

8 सालों में होंगे 24 आईसीसी टूर्नामेंट

एक रिपोर्ट के अनुसार, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के रिप्लेसमेंट के रूप में नया इवेंट शुरु करेगी। इस इवेंट में कुल छह टीमें ही ट्रॉफी के लिए कॉम्पटीशन में शामिल होंगी। “बोर्ड ने फैसला किया कि 2023 में शुरू होने वाला आठ साल का चक्र आठ मेन्स इवेंट, आठ महिलाओं के इवेंट, चार पुरुषों के अंडर -19 इवेंट्स और चार महिलाओं की अंडर -19 इवेंट्स को शामिल करेगा।”

क्रिकेट को और आकर्षक बनाएगा
आईसीसी के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने कहा, “विकल्पों की एक पूरी सीरीज की जांच करने में, बोर्ड को लगा कि हर साल एक बड़ा पुरुष और महिला इवेंट हमारे क्रिकेट कलेंडर को और भी अधिक आकर्षक बनाते हुए, क्रिकेट को और मजबूती देगा। यह खेल के विकास और हमारे सभी हितधारकों के लिए अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने का मौका देगा।”

बीसीसीआई चुनाव के बाद उठाएगा कदम
बीसीसीआई  के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि चुनाव होने के बाद बोर्ड अब इस मामले में सख्त कदम उठाएगा। उन्होंने कहा, ‘मान लीजिए कि स्टार स्पोटर्स या सोनी टीवी, रेडियो, डिजिटल प्रसारण अधिकार का सौ करोड़ रुपये का बजट है। इसमें दो अहम पक्ष आईसीसी और बीसीसीआई हैं। बीसीसीआई के पास आईपीएल और द्विपक्षीय सीरीज (पाकिस्तान के अलावा) हैं।’

राहुल जौहरी ने ई-मेल कर रखी अपनी बात

अधिकारी ने कहा कि प्रसारक यदि 2023-2028 की अवधि के लिए आईसीसी अधिकार खरीदने पर 60 करोड़ रुपये खर्च करता है तो बीसीसीआई के बाजार में उतरने पर उसके पास 40 करोड़ रपपये ही बचे रहेंगे। इससे बीसीसीआई का राजस्व घट जाएगा। बीसीसीआई के सीईओ राहुल जोहरी ने ईमेल में कहा कि बीसीसीआई 2023 के बाद आईसीसी टूर्नामेंटों और प्रस्तावित अतिरिक्त आईसीसी टूर्नामेंटों पर ना तो सहमति जताता है और ना ही पुष्टि करता है।