Tuesday, 3 December 2019

नेताओं को महिला डाक्टर के घर पर नहीं मिली एंट्री, लोग बोले- 'सहानुभूति नहीं न्याय चाहिए'


महिला पशुचिकित्सक से बलात्कार और हत्या को लेकर यहां लोगों का गुस्सा इस कदर बढ़ गया है कि उसकी कॉलोनी के निवासियों ने रविवार को उन नेताओं और अन्य लोगों को वहां से लौटा दिया...
नेशनल डेस्क: महिला पशुचिकित्सक से बलात्कार और हत्या को लेकर यहां लोगों का गुस्सा इस कदर बढ़ गया है कि उसकी कॉलोनी के निवासियों ने रविवार को उन नेताओं और अन्य लोगों को वहां से लौटा दिया, जो उनके परिवार से सहानुभूति व्यक्त करने के लिए उनसे मिलना चाहते थे। शहर के बाहरी इलाके में शमशाबाद स्थित कॉलोनी के दरवाजों को निवासियों ने बंद कर दिया है और उसके ऊपर ‘‘कोई मीडिया नहीं, पुलिस नहीं, बाहरी नहीं, सहानुभूति नहीं, केवल कार्रवाई और न्याय चाहिए'' लिखी हुई तख्तियां रखी हुई हैं।

वीरवार को हुई इस घटना की निंदा करते हुए, एक महिला ने पूछा कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने अब तक इस घटना पर प्रतिक्रिया क्यों नहीं दी। महिला ने पूछा कि मुख्यमंत्री त्वरित न्याय सुनिश्चित क्यों नहीं कर रहे हैं? एक अन्य महिला ने पूछा कि प्रधानमंत्री ने अभी तक इस घटना पर ट्वीट क्यों नहीं की? पूर्व माकपा विधायक जे रंगा रेड्डी और उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को निवासियों ने अंदर नहीं जाने दिया और उन्हें वापस जाने के लिए कहा।

रेड्डी ने कहा कि वह और उनके सहयोगी परिवार के प्रति समर्थन व्यक्त करने के लिए कुछ समय के लिए कॉलोनी के द्वार पर ही बैठे रहे। उन्होंने मांग की कि मुख्यमंत्री महिलाओं के खिलाफ अपराधों को रोकने के लिए पुलिस की त्वरित कार्रवाई को सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाएं।

गौरतलब है कि सरकारी अस्पताल में काम करने वाली पशु चिकित्सक से वीरवार गुरुवार रात शहर के बाहरी इलाके में चार लोगों ने बलात्कार करके उसकी हत्या कर दी थी। बाद में 25 वर्षीय इस महिला का झुलसा हुआ शव बरामद हुआ था। मामले के चार आरोपियों को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया। मामले की जांच कर रही पुलिस ने रविवार को बताया कि वह चारों आरोपियों से आगे पूछताछ के लिए अदालत में याचिका दायर कर उनकी हिरासत की मांग करेगी।