Tuesday, 3 December 2019

हैदराबाद: लेडी डॉक्टर के लापता होने पर पुलिस बोली थी- भाग गई होगी, NCW ने थमाया नोटिस | जनता से रिश्ता

परिजनों ने इंडिया टुडे टीवी को बताया है कि वे कई पुलिस थाने का चक्कर लगाए. कई घंटे बाद दो कॉन्स्टेबलों को बेटी की तलाश में साथ चलने के लिए दिया गया. परिवार का कहना है कि पुलिस ने शुरू में मदद करने से इनकार कर दिया और दावा किया कि वह किसी के साथ भाग गई होगी.
पीड़िता के पिता ने कहा कि पुलिस मामले को टालती रही. उन्होंने हमें तीन घंटे तक इंतजार करवाया. दो कांस्टेबल मेरी बेटी की तलाश में गए लेकिन असफल रहे. उन्होंने बताया कि जब वे अपने घर के ही पास थाने में गए. हमें शमशाबाद ग्रामीण पुलिस स्टेशन में जाने को कहा गया. क्योंकि पीड़िता का अंतिम लोकेशन टोल प्लाजा उसी के अंतर्गत आता है.
4 आरोपी गिरफ्तार
इस मामले में पुलिस ने शुक्रवार शाम मुख्य आरोपी समेत 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. सभी आरोपियों के खिलाफ निर्भया एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है. साइबराबाद पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि आरोपियों के नाम मोहम्मद आरिफ, जोलू शिवा, जोलू नवीन और चिंताकुंटा चेन्नेकशवुलु हैं. इसमें मुख्य आरोपी मोहम्मद आरिफ है.
पुलिस ने कहा कि मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट, महबूबनगर को सौंपने का अनुरोध किया जाएगा. आरोपियों के खिलाफ निर्भया एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है.
गृह मंत्री ने दी सफाई
इस पूरी घटना को लेकर तेलंगाना के गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने बेतुका बयान दिया. उन्होंने कहा कि महिला पढ़ी-लिखी थी. उसने पुलिस को फोन करने की बजाय अपनी बहन को क्यों फोन किया. हालांकि बयान पर विवाद बढ़ने के बाद उनको सफाई देनी पड़ी.
गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने सफाई में कहा कि महिला डॉक्टर मेरी बेटी की तरह थी. हम घटना से दुखी हैं. पुलिस अलर्ट है और अपराध को नियंत्रित कर रही है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उसने अपनी बहन को बुलाया और 100 नंबर पर कॉल नहीं किया. अगर वह पुलिस को बुलाती तो शायद वह बच जाती.