Saturday, 8 February 2020

हर साल में तीन महीने के लिए क्यों विधवा बन जाती हैं यहाँ की महिलाये


शादी के बाद पति-पत्नी का साथ उम्र भर के लिए बन जाता है। पति की मृत्यु हो जाने पर तो पत्नी के लिए जिंदगी काटना भी मुश्किल हो जाता है। उत्तर प्रदेश में एक गांव ऐसा भी है जहां हर साल महिलाएं तीन महीने के लिए विधवा हो जाती हैं। ऐसा एक रिवाज है जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।
यूपी के दवरिया का भेलवाड़ा जिले जहां पर सुहागिन औरतें हर साल तीन महीनों तक कोई श्रृंगार नहीं करतीं। सादे कपड़े पहनती हैं और बिल्कुल विधवा की तरह जीवन जीती हैं। इन महीनों में हर तरफ अजीब सी मायूसी और मातम का माहौल बना रहता है। कहते हैं इसके पीछे एक परंपरा है जिसे हर महिला को निभाना होता है।
इसके पीछे का कारण यहां के मर्दों का पेड़ों से ताड़ी निकालना है। इस बात को जानकर अजीब लगेगा कि इन महिनों में ताड़ के पेड़ से ताड़ी निकालने का काम होता है। यह वृक्ष 50 फिट से भी ज्यादा ऊंचे और स्पाट होते हैं। इन पर चढ़ने से कई लोगों की गिर कर मौत भी हो जाती है। पतियों के घर से दूर जाने पर महिलाएं इस गांव में इस तरह का माहौल बना लेती हैं।