Wednesday, 5 February 2020

दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर Temba Bavuma ने अपने रंग को लेकर दिया ऐसा बयान


केपटाउन। इंग्लैंड के खिलाफ पहले इंटरनेशनल वनडे में अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज तेम्बा बावुमा (Temba Bavuma) ने स्वीकार किया कि कई बार उनको उनकी त्वचा के रंग के हिसाब से देखा जाता है, जिससे उनका करियर प्रभावित हुआ। दक्षिण अफ्रीका ने यहां मंगलवार देर रात को खेले गए पहले वनडे मैच में वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड को सात विकेट से हराया था, इस मैच में Temba Bavuma ने 98 रनों की शानदार पारी खेली थी।
Temba Bavuma ने पिछले महीने ही दक्षिण अफ्रीकी टीम में वापसी की थी। उन्होंने इसके बाद पहली बार कोई बयान दिया। बावुमा ने कहा, यह काफी मुश्किल है। यह बाहर जाने को लेकर नहीं है। सभी खिलाड़ी बाहर होते हैं। हर खिलाड़ी खराब दौर से गुजरता है जब वो रन नहीं बना रहा होता है। मेरे लिए परेशानी तब होती है जब वे परिवर्तन की बात करते हैं। हां, मैं अश्वेत हूं और यह मेरी त्वचा का रंग है। लेकिन, मैं क्रिकेट खेलता हूं क्योंकि यह मुझे पसंद है। मैं टीम में हूं क्योंकि मैंने अपने प्रदर्शन के दम पर अपनी टीम को आगे बढ़ाया है। अगर अश्वेत खिलाड़ी अच्छा नहीं कर रहे होते हैं तो परिवर्तन सही है, लेकिन जब वे अच्छा करते हैं तो यह ठीक नहीं है।
दक्षिण अफ्रीकी नियम के अनुसार उनकी राष्ट्रीय टीम में 6 खिलाड़ियों को कोटा सिस्टम की वजह से जगह मिलती है और इसमें दो ब्लैक अफ्रीकंस को शामिल किया जाता है। Temba Bavuma सोशल मीडिया में उस समय विवादों में उलझे जब यह कहा गया कि उन्हें कोटा सिस्टम की वजह से दक्षिण अफ्रीकी टीम में जगह मिली हुई है। 29 साल के बावुमा ने इन आरोपों का खंडन किया है।
इंग्लैंड ने सीरीज के पहले वनडे मैच में आठ विकेट पर 258 रन बनाए थे जिसके जवाब में मेजबान टीम ने तीन विकेट खोकर 259 का स्कोर कर मैच अपने नाम किया। द. अफ्रीका की तरफ से कप्तान क्विंटन डी कॉक ने शतक लगाया था और उनके और बावुमा के बीच हुई साझेदारी की वजह से टीम जीत दर्ज कर पाई थी। तीन मैचों की सीरीज का दूसरा मैच शुक्रवार को खेला जाएगा।