Tuesday, 3 March 2020

13 साल पहले टीम को बनाया चैंपियन, फिर कैंसर से जीती जंग, अब इतिहास दोहराने को तैयार यह दिग्गज


रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) के मौजूदा सत्र में अब तक कई हैरान करने वाले मौके आए हैं. मुंबई जैसी मजबूत टीम नॉकआउट स्टेज में जगह नहीं बना पाई वहीं बंगाल (Bengal) की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 13 साल बाद फाइनल में जगह बनाई है. अब बंगाल की टीम अपने पूर्व चैंपियन खिलाड़ी अरुण लाल (Arun Lal) के कोच रहते इतिहास रचने को तैयार है.

कैंसर के बाद अरुण लाल ने की वापसीबंगाल की टीम ने पिछली बार साल 1989-90 में रणजी ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था. उस साल बंगाल ने बारिश से प्रभावित मैच में दिल्ली को मात दी थी. . यह सीजन मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली का डेब्यू सीजन था. इस सीजन में बंगाल की ओर से सबसे ज्यादा 695 रन अरुण लाल (Arun Lal) बनाए थे. वही अरुण लाल (Arun Lal) जो मौजूदा सीजन में टीम के मुख्य कोच हैं. साल 2016 में उन्हें मुंह में कैंसर हो गया था, जिसके बाद अब जाकर उन्होंने सक्रिय क्रिकेट में वापसी की है. बतौर कोच बंगाल के साथ यह अरुण लाल का पहला साल है. अरुण ने बंगाल की टीम की दिशा बदल दी जिसका सबूत है कि वह 13 साल में पहली बार फाइनल में पहुंची है.

अरुण लाल का कहना है कि उन्होंने टीम में हर खिलाड़ी को एक समान महसूस करवाने की कोशिश की. टीम में इशान पोरेल (Ishan Porell) जैसे युवा खिलाड़ी से लेकर मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) जैसे अनुभवी खिलाड़ी सभी को उनकी अहमियत समझाइ जिसका फल उन्हें मिल रहा है. टीम का यह प्रदर्शन उन्हें किसी परिकथा जैसा नहीं लगता बल्कि वह सोचते हैं कि उन्हें वह मिला जिसकी टीम हकदार थी. कर्नाटक को मात देकर फाइनल में पहुंचा बंगालतेज गेंदबाज मुकेश कुमार ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए छह विकेट चटकाए जिससे बंगाल ने रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल के चौथे दिन मंगलवार को कर्नाटक को 174 रन से हराकर 13 साल में पहली बार रणजी ट्रॉफी फाइनल में जगह बनाई थी. मुकेश ने 61 रन देकर छह विकेट चटकाए जिससे 352 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए कर्नाटक की टीम दूसरी पारी में 55 .3 ओवर में 177 रन पर ढेर हो गई. बंगाल की ओर से इशान पोरेल और आकाश दीप ने भी दो-दो विकेट चटकाए. बंगाल ने साथ ही कर्नाटक को खिताब की हैट्रिक बनाने से भी रोक दिया.

कर्नाटक ने हाल में घरेलू एकदिवसीय (विजय हजारे ट्राफी) और टी20 टूर्नामेंट (सैयद मुश्ताक अली ट्राफी) जीता था. टीम इससे पहले 2014-15 में लगातार दूसरी बार खिताबी हैट्रिक बनाने में सफल रही थी. फाइनल में बंगाल का सामना गुजरात और सौराष्ट्र के बीच राजकोट में चल रहे एक अन्य सेमीफाइनल के विजेता से होगा. फाइनल नौ मार्च से खेला जाएगा लेकिन बंगाल की टीम को यह मैच विरोधी टीम के मैदान पर खेलना होगा.