Sunday, 29 March 2020

एक अनोखा पेड़, जिसकी 24 घंटे सुरक्षा करती है पुलिस, सालाना खर्च होते है 15 लाख रुपये


आपको पता होगा बड़े बड़े राजनेताओ को पुलिस की कड़ी सुरक्षा दी जाती है | उनकी सुरक्षा के लिए हर समय पुलिस तैनात रहती है, लेकिन अब अगर कहा जाये कि एक पेड़ की सुरक्षा के लिए चौबीसो घंटे पुलिस तैनात रहती है, तो थोड़ा अजीब लगता है | ये भले ही फेक न्यूज़ लगे लेकिन ये एकदम सच है | बता दे ये पेड़ भोपाल की सलामतपुर की पहाड़ी पर स्थित है | आइये जानते है आखिर इस पेड़ की VIP सुरक्षा का मामला क्या है |

Third party image reference
बता दे इस पेड़ की सुरक्षा के लिए हर पल 4 से 5 पुलिसकर्मी तैनात रहते है | इतना ही नहीं इसकी सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किये गए है | इस पेड़ की सिंचाई के लिए पानी भी नगर पालिका के टैंकर से आता है, इसके साथ ही कृषि विभाग के अधिकारी इस पेड़ की जाँच के लिए समय समय पर आते रहते है | और इतना ही नहीं ऐसा भी बताया जाता है कि पेड़ के रखरखाव के लिए 12-15 लाख का खर्चा हर साल आता है 

Third party image reference
दरअसल ये एक पीपल का पेड़ है और इसे बोधि वृक्ष कहा जाता है | ये 2012 में लगाया गया था. 2012 में श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति भारत आये थे | तब ये पेड़ उन्होंने लगाया था, इसीलिए इस पेड़ को दो देशो के बीच सद्भाव के तौर पर देखा जाता है |

Third party image reference
आपकी जानकारी के लिए बता दे बोधि वृक्ष का बौद्ध धर्म में बहुत महत्व है, क्योंकि बोधि वृक्ष के नीचे ही भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुयी थी | ऐसा बताया जाता है कि सम्राट अशोक ने अपने बेटे महेंद्र और बेटी संघमित्रा को बोधि वृक्ष की टहनी देकर देश विदेश में बौद्ध धर्म के प्रचार करने को कहा था | तब उन्होंने वो वृक्ष श्रीलंका के अनुराधापुरा में लगाया था, बता दे वह वृक्ष आज भी मौजूद है |

Third party image reference
जिस पेड़ के नीचे भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुयी थी, वह बिहार के गया में मौजूद है | बताया जाता है कि इस पेड़ को कई बार नष्ट करने की कोशिश की गयी लेकिन ये हर बार उग आया | लेकिन साल 1876 में एक भयानक प्राकृतिक आपदा के चलते ये नष्ट हो गया था फिर 1880 में अंग्रेज अफसर लॉर्ड कनिंघम ने श्रीलंका के अनुराधापुरम से बोधिवृक्ष की शाखा मंगवा कर उसे बोधगया में फिर से स्थापित कराया था, तब से वह वृक्ष आज भी वहां मौजूद है |