Friday, 27 March 2020

B'Day SPL-फ्लॉप फिल्मों के बाद भी बढ़ता गया अक्षय खन्ना का ग्राफ, इस मूवी से चमका नाम


बॉलीवुड (Bollywood) में एक्टर हो या एक्ट्रेस अपनी एक्टिंग के साथ अपने लुक्स से भी लोगों के दिलों में राज करते हैं. बॉलीवुड में ऐसे कई स्टार किड्स हैं, जो अच्छी शुरुआत के बाद भी नाम नहीं कमा पाते लेकिन अपने किरदारों के दम पर एक अलग पहचान ले लेते हैं. इन्हीं में से एक नाम अक्षय खन्ना (Akshaye Khanna) का भी है. साल 1997 में फिल्मी सफर की शुरुआत करने वाले अक्षय खन्ना आज अपना 45वां बर्थडे मना रहे हैं. आंखों से अभिनय की गहराइयां छूते अक्षय फिल्मी दुनिया में लंबे अनुभव के बाद भी खुद के ट्रेनी मानते हैं.

करियर की पहली फिल्म हुई थी फ्लॉप
बॉक्स ऑफिस पर फिल्म हिट होती है तो एक्टर का करियर भी हिट होता है. फिल्मों के हिट होने पर ही नेम और फेम दोनों किसी भी नए एक्टर को बुलंदियों तक पहुंचाने में मदद करती है. लेकिन अक्षय खन्ना के करियर में ऐसा बिलकुल नहीं हुआ. एक के बाद एक कई फिल्में फ्लाप देने के बाद भी उनके करियर का ग्राफ लगातार बढ़ता चला गया.

बॉर्डर से बनें सुपरस्टार
पिता विनोद खन्ना के बेटे होने के नाते बॉलीवुड में उन्हें एक के बाद एक कई फिल्में मिली लेकिन बॉक्स ऑफिस पर कुछ कमाल नहीं कर सकी. वो चाहते थे कि लोग उन्हें विनोद खन्ना नहीं बल्कि उन्हें उनके ही नाम से जानें लेकिन इसके लिए उन्हें काफी लंबे समय का इंतजार करना पड़ा. 'हिमालय पुत्र', 'कुदरत', 'मोहब्बत', 'लव यू हमेशा' से दर्शकों का प्यार उन्हें नहीं मिला. वह बस एक अच्छे मौके की तलाश में थे और फिर जे पी दत्ता निर्देशित 'बॉर्डर' में उन्हें यह मौका मिल गया. फिल्म 'बॉर्डर'में भले ही बहुत ज्यादा एक्टर्स थे लेकिन अक्षय अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे और फिल्म जबरदस्त हिट हुई.

इस फिल्म से फिर मिला बूम
इसके बाद अक्षय कई सारी फिल्मों में नजर आए लेकिन सभी फिल्में बुरी तरह पिट गई, जिसमें मोहब्बत, कुदरत, लावारिस, भाई-भाई और डोली सजा के रखना फिल्म शामिल है. साल 1999 में वो ऐश्वर्या राय के साथ आई फिल्म 'आ अब लौट चले' में नजर आए. इस फिल्म में दर्शकों ने उनकी जोड़ी को खूब सराहा. इसके बाद यह दोनों एक बार फिर से 'ताल' फिल्म में नजर आए. इस फिल्म में भी दर्शकों ने उन्हें पसंद किया. साल 2001 में फिल्म 'दिल चाहता है' में वो आमिर और सैफ अली के साथ नजर आए.

हर तरह के किए रोल
उन्होंने 'हलचल' और 'हंगामा' में हास्य रस की भूमिका निभायी तो 'हमराज' और 'रेस' में खलनायक की भूमिका में भी नजर आए. गांधी माई फादर' अक्षय के करियर की सबसे उल्लेखनीय फिल्म मानी जाती है. इस फिल्म में हरिलाल गांधी की भूमिका में अक्षय का संवेदनशील अभिनय बेहद पसंद किया गया.



साल 2012 में में दुनिया से किया किनारा
साल 2012 में फिल्म गली गली में चोर है करने के बाद अक्षय दुनिया से कट से गए. वह अलीबाग स्थित अपने फार्महाउस में रहने लगे और 4 साल तक लाइमलाइट से दूर हो गए. इसके बाद 2016 में उन्होंने फिल्म ढिशूम से वापसी की और फिर मॉम, इत्तेफाक और द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर जैसी फिल्मों में कमाल का काम किया. इन फिल्मों में उनके काम को सराहा गया.

लंबे समय बाद एक बार फिर बड़े पर्दे पर हाजिर
अक्षय खन्ना लंबे समय बाद एक बार फिर बड़े पर्दे पर हाजिर हुए और फिल्म 'सब कुशल मंगल' के साथ नजर आए. अक्षय खन्ना ने इस फिल्म में अपनी कॉमिडी से गुदगुदाया. हालांकि फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं कर पाई.

अब तक नहीं की शादी
45 साल के अक्षय ने आज तक शादी नहीं की. एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा था कि हर किसी की निजी जिंदगी से आप खुद की निजी जिंदगी कंपेयर नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा था कि मैं किसी के भी साथ अपनी निजी जिंदगी शेयर नहीं कर सकता हूं. फिर चाहे वह शादी हो और बच्चों को अडॉप्ट करना हो. ये सभी चीजें आपकी लाइफ में कई बड़े बदलाव लाती हैं, जो भी चीजें आपके लिए बेहद जरूरी होती हैं वे कहीं न कहीं कम जरूरी लगने लगती है. जो भी बदलाव आपको अपने निजी जीवन में करने होते हैं वो मैं नहीं कर सकता हूं. मैं किसी भी चीज को छोड़ नहीं सकता हूं.

23 साल के फिल्मी करियर में अक्षय खन्ना ने कॉमेडी से लेकर संजीदा हर रोल निभाया. फिल्मों में उनका रोल इतना दमदार होता है कि लोग उनकी एक्टिंग के कायल हो जाते हैं.