Saturday, 28 March 2020

लॉकडाउन के कारण फंसे दिग्गज खिलाड़ी ने जाहिर की बेबसी, कहा- परिवार की बहुत याद आती है



चेल्सी (Chelsea) फुटबॉल क्लब के विंगर पेड्रो (Pedro) ने स्वीकार किया कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण बच्चों से अलग रहना उनके लिये काफी मुश्किल हो रहा है. पेड्रो के बच्चे स्पेन में हैं और 32 साल का यह खिलाड़ी यात्रा संबंधित पांबदियों के कारण अपने परिवार को देखने घर नहीं जा सकता.

चेल्सी की वेबसाइट पर पेड्रो ने कहा, 'अपने बच्चों, माता पिता, भाई बहनों को नहीं देख पाना काफी परेशानी भरा है. सभी के लिये इस मुश्किल दौर में परिवार के करीब नहीं रह पाना काफी कठिन है.' उन्होंने कहा, 'हम फोन पर संपर्क बनाये हैं कि हम अलग रहकर क्या कर रहे हैं और जितना संभव हो करीब रहने की कोशिश कर रहे हैं.' प्रीमियर लीग 30 अप्रैल तक निलंबित हो गयी है लेकिन वायरस के प्रकोप को देखते हुए तारीखें आगे तक बढ़ सकती हैं .पेड्रो अपनी फाउंडेशन के जरिये स्पेन में मदद कर रहे हैं.

स्पेन में लोगो की मदद के लिए फार्मासिस्ट बने फुटबॉलर स्पेन (Spain) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में शामिल होने के लिये ला लिगा के विंगर टोनी डोवाले ने फुटबॉल छोड़कर फार्मासिस्ट का सफेद कोट पहनने का फैसला किया . फार्मेसी में स्नातक और शीर्ष स्तर के फुटबालर रहे डोवाले थाईलैंड के एक क्लब के लिये खेलते हैं लेकिन कोरोना वायरस महामारी फैलने के समय स्पेन आये हुए थे .

उन्होने इस लड़ाई में अपना योगदान देने के लिये उसी तालीम का इस्तेमाल करने का फैसला किया जिसे वह फुटबाल का अपना शौक परवान चढाने के लिये छोड़ चुके थे . उन्होंने कहा ,'मैं तो वापिस जाने के लिये अपना सामान पैक कर रहा था जब यह सब हो गया .' डोवाले ने चार साल पहले फार्मेसी में स्नातक की डिग्री ली लेकिन कभी इस क्षेत्र में काम नहीं किया . स्पेन में 64000 से अधिक लोग संक्रमण का शिकार हैं जबकि 4800 से अधिक जानें जा चुकी हैं.