Tuesday, 14 April 2020

वीवीएस लक्ष्मण ने नकार चार दिन वाला टेस्ट मैच सुझाव, बताया क्या होगा नुकसान


टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने चार दिन के टेस्ट मैच कराने के सुझाव को नकार दिया है। उनका कहना है कि खेल को छोटा करने से इसके मनचाहे नतीजा आने की संभावना की उम्मीद से भी कम हो जाएगी। टेस्ट का असली जा पांच दिन में आता है और इसके बाद कई दिग्गज इस सुझाव पर नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। एक स्पोर्ट्स चैनल के नए शो क्रिकेट कनेक्ट्स पर बात करते हुए वीवीएल ने टेस्ट मैच को पांच दिन की जगह चार दिन का किए जाने के विचार पर अपनी राय दी।
उन्होंने कहा, " मैं तो चार दिन के टेस्ट मैच कराए जाने के पक्ष में बिल्कुल भी नहीं हूं। पांच दिन एक दम से इस फॉर्मेट के हिसाब से फिट बैठता है क्योंकि इसकी वजह से ज्यादा नतीजे आते हैं। मेरे हिसाब से चार दिन का किए जाने के बाद उसके मनचाहे नजीते आने की उम्मीद कम हो जाएगी।"
इसके अलावा उन्होंने बताया कि, " एक और भी पक्ष है इसका टॉस, खासकर विदेशी दौरे पर मेहमान टीम के कप्तान को यह अवसर मिले की वो तय कर पाए उसे क्या करना है, क्योंकि हम चाहते हैं कि जो टीम दौरा कर रही है वो विदेशी धरती पर मैच जीते। ऐसा होता है तो यह फैंस के लिए खेल को ज्यादा मजेदार बनाता है।"
आईसीसी की कमेटी 2023 की विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में टेस्ट मैच को चार दिन का करने पर विचार कर रही है। इवेंट के विंडो की मांग आईसीसी के पास लगातार बढ़ रही है, घरेलू टी20 लीग बढ रही है। वहीं बीसीसीआई ने अपने अलग द्वीपक्षीय सीरीज का कैलेंडर चाहती है 1जिसके बाद टेस्ट मैच को छोटा करने एक उपाय हो सकता है।
विश्व क्रिकेट के दिग्गजों को टेस्ट मैच को चार दिन का करने पर आपत्ति है। सचिन तेंदुलकर, गौतम गंभीर और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने चार दिन के टेस्ट का समर्थन नहीं किया है। हालांकि, इरफान पठान और भारतीय कोच रवि शास्त्री ने इसका समर्थन किया है।