Tuesday, 26 May 2020

क्रिकेट गुरु ही नहीं लव गुरु भी हैं सचिन, लॉकडाउन के बीच 25वीं सालगिरह पर कुछ इस तरह दिया अंजलि को सरप्राइज


कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण भारत में पिछले 2 महीनों से लॉकडाउन है. इसके चलते अब आम जनता हो या फिर क्रिकेटर्स हर कोई अपने परिवार के साथ वक्त बिता रहा है. इस बीच सचिन तेंदुलकर भी किचन की पिच पर उतर आए हैं और नई-नई डिश ट्राई करते नजर आते हैं. अब सोमवार को अपनी शादी की 25वीं सालगिरह पर सचिन ने अपने परिवार के लिए खास मैंगो कुल्फी बनाई और सोशल मीडिया पर फोटो शेयर की.
सचिन तेंदुलकर ने बनाई मैंगो कुल्फी
जब से लॉकडाउन हुआ है, तब से सभी लोग घर पर शैफ बन रहे हैं. आम जनता तो आम जनता अब खिलाड़ी भी किचन में उतर आए हैं. अब सोमवार को सचिन तेंदुलकर और अंजलि की शादी की पच्चीसवीं सलागिरह थी. इस मौके पर वह परिवार को बाहर ले जाकर पार्टी तो नहीं कर सकते ते.
तो सचिन ने घर पर ही पत्नी व बच्चों को सरप्राइज देने का प्लान बनाया और अपनी मां की मदद से अंजलि के लिए एक खास तरीके से मैंगो कुल्फी तैयार करते हुए उन्हें सरप्राइज दिया. साथ ही सचिन ने कुल्फी की पूरी रेसिपी भी शेयर की, कि कैसे आपको मैंगो को खाली करना है फिर उसमें दूध भरकर 4 से 5 घंटों के लिए डीप फ्रीज करना है. सचिन ने इतनी अच्छी तरह रैसिपी शेयर की, कोई भी आसानी से मैंगो कुल्फी ट्राई कर सकता है.
25 मई 1995 में हुई थी अंजलि-सचिन की शादी
मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और अंजलि की शादी 25 मई 1995 में हुई थी. अब 2020 में सिल्वर जुबली को ये कपल बाहर पार्टी करके या फिर घूम-फिरकर सेलिब्रेट नहीं कर सका. सचिन-अंजलि की लव स्टोरी काफी इंट्रस्टिंग थी. असल में जब सचिन 19 साल के थे, तब अंजलि-सचिन की पहली मुलाकात मुंबई हवाई अड्डे पर हुई थी.
अंजलि उनसे 5 साल बड़ी थी. स्टार बल्लेबाज सचिन और अंजलि के मिलने-जुलने का सिलसिला आगे बढ़ा और दोस्ती प्यार में बदल गया. इसके बाद 5 साल तक एक-दूसरे को डेट करने के बाद 25 मई 1995 में ये प्रेमी जोड़ा शादी के बंधन में बंध गया. अंजलि पेशे से एक डॉक्टर हैं.
भारत में चल रहा लॉकडाउन 4.0
कोरोना वायरस के चलते भारत में पिछले 2 महीने से अधिक वक्त से लगातार लॉकडाउन है. इसके बावजूद कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. महाराष्ट्र में तो मानो कोरोना का संक्रमण चरम पर है. वहां अब तक 50 हजार से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हैं और 16 सौ से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.
वहीं यदि संपूर्ण भारत देश की बात करें तो भारत में अब तक 1 लाख 45 हजार से अधिक लोग कोरोना संक्रमित हैं और 41 सौ से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. भारत में 3 चरणों का लॉकडाउन पूरा हो चुका है और अब 18 मई से 31 मई तक चौथे चरण का लॉकडाउन है.