Thursday, 21 May 2020

ज्यादा पपीता खाने से हो सकते हैं ये 5 साइड इफेक्‍ट


पपीते में मौजूद पपेन से एलर्जी होने की संभावना होती है. इसके अधिक सेवन से रिएक्‍शन के तौर पर सूजन, चक्कर आना, सिरदर्द, चकत्ते और खुजली जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं.
पपीता सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. यह लो कैलरी फ्रूट कई तरह का  लाभ देता है. इसे खाने के कई सारे फायदें है. यह पाचन क्षमता को बढ़ाता देता है. इस फल के लगभग हर हिस्से का उपयोग किया जा सकता है. यह एंटीऔक्सीडेंट कैरोटीनोइड जैसे कि बीटा-कैरोटीन का एक अच्छा स्रोत है. इसके अलावा पपीते के पत्तों को डेंगू बुखार में भी काफी प्रभावी होते हैं.
लेकिन क्या आप जानते हैं कि अधिक मात्रा में पपीता खाने से इसके साइड इफेक्‍ट भी होते हैं. जिसे जानना अपके लिए बेहद जरूरी है.
1. गर्भवती महिलाओं के लिए है हानिकारक
ज्यादातर हेल्‍थ एक्सपर्ट गर्भवती महिलाओं को पपीता खाने से बचने की सलाह देते हैं, क्योंकि पपीते के बीज और जड़ भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकते हैं. पपीते में लेटेक्स की हाई मात्रा होती है जो गर्भाशय सिकुड़न का कारण बन सकती है. पपीते में मौजूद पपेन शरीर की उस झिल्ली को नुकसान पहुंचा सकता है जो भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक है.
2. कम हो सकता है ब्‍लड शुगर
पपीता ब्‍लड शुगर के लेवल को कम कर सकता है, जो डायबिटीज रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है. ऐसे में अगर आप मधुमेह के रोगी हैं, तो डौक्टर से परामर्श करना हमेशा सर्वोत्तम रहेगा.
3. पेट दर्द का कारण
पपीते में भारी मात्रा में फाइबर पाया जाता है. कब्‍ज होने पर ये आपको फायदा दे सकता है. लेकिन ये आपका पेट खराब भी कर सकता है. इसके अलावा, पपीते की बाहरी त्वचा में लेटेक्स होता है, जो पेट को अपसेट कर सकता है और पेट दर्द का कारण भी बन सकता है.
4. श्वसन विकार
पपीता में मौजूद एंजाइम पपेन को संभावित एलर्जी भी कहा जाता है. अत्यधिक मात्रा में पपीते का सेवन अस्थमा, कंजेशन और जोर जोर से सांस लेना जैसी विभिन्न श्वसन संबंधी विकार पैदा कर सकता है.
 5. एलर्जी होने की है संभावना
पपीते में मौजूद पपेन से एलर्जी होने की संभावना होती है. इसके अधिक सेवन से रिएक्‍शन के तौर पर सूजन, चक्कर आना, सिरदर्द, चकत्ते और खुजली जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं.