Saturday, 13 June 2020

पुराने पेड़ से निकलने लगा कुछ ऐसा, गांव में लग गया देखने वालों का मेला और फिर तभी....

दरअसल लोगो का कहना है, कि प्राकृतिक की इस घटना के पीछे भगवान् का ही आशीर्वाद छुपा है. ऐसे में लोगो ने इस स्थान को पूजनीय मान कर यहाँ पूजा करना भी शुरू कर दिया है.  देर रात तक वहां लोगो की काफी चहल पहल थी. इसके इलावा बहुत से लोग अपने निजी वाहनों से दर्शन करने के लिए यहाँ पधारे थे.

बता दे कि इस नीम के पेड़ से दूध निकलता देख लोग भी हैरान है. गौरतलब है, कि दूध की धारा कभी तेज हो जाती है और कभी धीरे धीरे टपकने लगती है. बरहलाल गांव के बहुत से लोगो ने इस दूध को बर्तन में इकठ्ठा किया और बहुत से लोगो ने इस दूध को चखा. वैसे जिन लोगो ने इस दूध का स्वाद लिया है, उनका कहना है, कि ये बिलकुल नारियल के पानी की तरह स्वादिष्ट है. यहाँ तक कि बहुत से लोग इस पेड़ से अलग किस्म की धुन सुनने का दावा भी कर रहे है. बता दे कि इस प्राचीन नीम के पेड़ के ऊपर पीपल और बरगद के छोटे पेड़ भी मौजूद है.

वही स्थानीय लोगो का कहना है, कि ये भोलेबाबा का चमत्कार ही है. इसके इलावा गांव की सुमति देवी ने बताया कि भोलेबाबा ने उसके सपने में आकर उससे खुद ये कहा कि वे पूरे शिव परिवार के साथ वहां विराजमान है. इसके साथ ही सुमति का कहना है, कि भोलेबाबा ने खुद उसे पूजा करने का निर्देश दिया है. ऐसे में गांव वाले उस क्षेत्र की घेराबंदी करके पूजा पाठ जारी रखने की योजना बना रहे है