Tuesday, 14 July 2020

चीनी कंंपनी UC Browser ने लिया भारत से अपना कारोबार समेटने का फैसला, सरकार के साथ नहीं बनी बात

चीन के अलीबाबा ग्रुप के इंटरनेट ब्राउजर यूसी ब्राउजर ने भारत से अपना कारोबार समेटने का फैसला किया है। सूत्रों ने बताया कि बुधवार सुबह यूसी प्रबंधन की बैठक में उक्‍त फैसला लिया गया है। इससे पहले यूसी ब्राउजर के यूसी न्‍यूज के भारतीय ऑपरेशन को भी बंद करने की खबर आ चुकी है।

सूत्रों ने बताया कि भारत में स्थितियां चुनौती पूर्ण बने रहने और भविष्‍य की अनिश्चितता बरकरार रहने के चलते प्रबंधन ने भारत में अपना कारोबार समेटने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक भारत सरकार द्वारा 59 चीपी एप को भारत में प्रतिबंधित किए जाने के बाद से चीनी कंपनियां लगातार भारत सरकार से संपर्क में हैं लेकिन इस बातचीत का अभी तक कोई हल निकलता नहीं दिख रहा है। अनिश्चितता और बढ़ते घाटे की वजह से यूसी ब्राउजर ने तत्‍काल अपना कारोबार भारत में बंद करने का निर्णय लिया है।
कोरोना वायरस महामारी ने भी चीनी कंपनी को घाटे में चल रहे अपने कारोबार को भारत में बंद करने के लिए मजबूर कर दिया है। बाइटडांस के शॉर्ट वीडियो एप वीगो और कवाई पहले ही अपना कारोबार बंद करने की घोषणा कर चुके हैं और यूसी न्‍यूज ने भी अपना ऑपरेशन अप्रैल, 2020 से ही बंद कर रखा है। यूसी न्‍यूज को चार पहले पहले भारत में लॉन्‍च किया गया था, लेकिन यह लक्षित यूजर्स बेस हासिल करने में सफल नहीं रही, इसलिए अब कंपनी ने इसे भारत में बंद करने का फैसला लिया है।
अलीबाबा यूसी वेब के तहत भारत में चार इकाईयों यूसी ब्राउजर,यूसी न्‍यूज, वीमेट और 9एप्‍स का संचालन करती है। लॉन्‍च के एक साल बाद यूसी न्‍यूज ने दावा किया था कि उसके भारत में 8 करोड़ यूजर्स हैं। अलीबाबा ने भारत और इंडोनेशिया में यूसी न्‍यूज कारोबार में 200 करोड़ रुपए का निवेश करने की घोषणा की थी। भारत में 13 करोड़ एक्टिव यूजर्स के बावजूद यूसी न्‍यूज की रैंकिंग गूगल प्‍ले स्‍टोर पर टॉप 500 लिस्‍ट में भी नहीं रह गई थी। वर्तमान में 5लाख से भी कम लोग दैनिक आधार पर यूसी न्‍यूज को ओपन कर रहे हैं।